सीबीआई का जम्मू-कश्मीर के पूर्व मंत्री चौधरी लाल सिंह के 9 ठिकानों पर छापा

नई दिल्ली। केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) आज जम्मू-कश्मीर के आरबी शिक्षण ट्रस्ट और इसके अध्यक्ष पूर्व मंत्री व डोगरा स्वाभिमान संगठन (डीएसएस) के संस्थापक चौधरी लाल सिंह सहित कई अन्य अधिकारियों के ठिकानों पर छापे मार रही है। इनमें जम्मू में तीन और कठुआ के छह स्थानों पर छापे जारी हैं।
सीबीआई प्रवक्ता आरके गौड़ के अनुसार चौधरी लाल सिंह और उनके आरबी शिक्षण संस्थान व ट्रस्ट पर भूमि कब्जाने और भ्रष्टाचार के आरोप हैं। सीबीआई ने यह मामला 25 जून को दर्ज किया था। इस सिलसिले में पिछले दिनों भी छापे मारे गए थे। तब जम्मू नगर निगम से कई रिकार्ड मिले थे। उसी के आधार पर आज जम्मू-कश्मीर के पूर्व मंत्री चौधरी लाल सिंह के राजबाग और कठुआ शहर स्थित आवासीय परिसरों पर छापे मारे गए हैं। इसके अलावा कठुआ के तत्कालीन डीसी (जेएंडके), तत्कालीन तहसीलदार, तत्कालीन नायब तहसीलदार, तत्कालीन गिरदावर, तत्कालीन पटवारी और अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है।
सीबीआई के अनुसार वन विभाग और राजस्य के अधिकारियों ने वन भूमि की बिक्री और खरीद की अनुमति देने में उचित मानकों का पालन नहीं किया। ट्रस्ट के पास सीमा से अधिक जमीन है और इससे जुड़े अधिकारियों ने गलत हलफनामा देकर राज्य सरकार को भारी आर्थिक नुकसान पहुंचाने में मदद की है। इसके अलावा 9 जून, 2015 को जम्मू और कश्मीर के उच्च न्यायालय में आरोपियों ने ट्रस्ट की जमीन, फंड और अन्य दस्तावेजों के बारे में गलत सूचना प्रस्तुत की थी। यह सीबीआई जांच में पता चला। उसके बाद आज मंगलवार को आरोपियों की तलाश में सीबीआई की दो टीमों ने कठुआ शहर के वार्ड नंबर 2 और राजबाग में सुबह 7 बजे के आसपास चौधरी लाल सिंह के ठिकानों पर तलाशी शुरू की। टीमों का नेतृत्व सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी कर रहे हैं। स्थानीय पुलिस छापेमारी में शामिल नहीं है।
उल्लेखनीय है कि चौधरी लाल सिंह पर कठुआ के रसाना की आठ वर्षीय एक खानाबदोश लड़की के साथ बलात्कार कर उसकी हत्या करने का भी आरोप है। इसके अलावा सीबीआई ने लाल सिंह पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के तहत आज आरबी एजुकेशन ट्रस्ट, ट्रस्ट के अध्यक्ष, कठुआ के पूर्व डीसी, पूर्व तहसीलदार, पूर्व नयाब तहसीलदार के खिलाफ मामले दर्ज किए हैं। इस मामले में अब सीबीआई को कई अधिकारियों की भी तलाश है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*